खाद्य विभाग के वेयर हाउस हाईटेक  होंगे, सारा रिकॉर्ड मिनटों में मिलेगा  
खाद्य विभाग के वेयर हाउस हाईटेक 

होंगे, सारा रिकॉर्ड मिनटों में मिलेगा  
इंदौर। खाद्य विभाग के अंतर्गत आने वाले वेयर हाउस भी अन्य शासकीय विभागों की तरह हाईटेक होने जा रहा है। यहां से संचालित सभी कामों, योजनाओं व खाद्य सामग्रियों की सारी जानकारी एक क्लिक में सामने आ जाएगी। शीघ्र ही इस योजना पर काम शुरू कर दिया जाएगा। 

  बड़ा गणपति स्थित वेयर हाउस पर अनाज क्रय करने का काम होता है। यहां अनाज को सुरक्षित रखने के लिए बड़े-बड़े गोदाम भी हैं, जहां हजारों क्विंटल अनाज रखा हुआ है। अनाज संबंधी सारी जानकारी विभागीय प्रमुख व खाद्य विभाग को ही होती है। आमजन को इसके बारे में कोई जानकारी नहीं होती। यहां तक की लोगों ने ऑफिस तक नहीं देखा है। यहां किसानों से खरीदा गया अनाज संग्रहित किया जाता है और उसे कंट्रोल तथा सरकारी भंडार में वितरित किया जाता है। अनाज वितरण के लिए खाद्य विभाग की अनुमति ली जाती है। वेयर हाउस के कतिपय कर्मचारी यहां रखे अनाज की कई बार कालाबाजारी भी कर देते हैं। कालाबाजारी के बाद कंट्रोलों पर वितरित किए जाने वाले अनाज में संख्या बढ़ा दी जाती है। संख्या को इस तरह बढ़ाया जाता है कि किसी को पता तक नहीं चलता।
ट्रांसफर की सुध नहीं
  वेयर हाउस में लंबे समय से अधिकारी-कर्मचारी पदस्थ हैं। सरकार के नियमानुसार अधिकारियों के समय-समय पर ट्रांसफर होना चाहिए। मिली जानकारी के मुताबिक, वेयर हाउस की तरफ सरकार नजर उठाकर नहीं देखती। इसी का बेजा फायदा कर्मचारी-अधिकारी उठाते हैं। यहां तक की अधिकारियों के तबादले तक समय पर नहीं होते। वे लंबे समय से यहां पर जमे होकर कालाबाजारी में लगे हुए हैं। 
मशीन से लगेगी हाजिरी
  आमतौर पर इस विभाग की तरह प्रशासन का ध्यान कम ही रहता है। खाद्य सामग्री वितरण व्यवस्था के समय ही प्रशासनिक आदेश मिलते हंैं। यही कारण है कि कर्मचारी-अधिकारी कार्यालय में समय पर नहीं आते, जिससे कई बार फाइल अटकी रहती है, वहीं विभागीय काम भी प्रभावित होते हैं। इस व्यवस्था को दुरुस्त करने अब बायोमैट्रिक मशीन लगाई जाएगी। मशीन में अंगूठी निशानी के बाद ही कर्मचारी का वेतन हर माह आहरित हो सकेगा।
तौलकांटा दुरुस्त करेंगे 
  वेयर हाउस में भारवाहक वाहनों से आने वाले अनाज का वजन तौलकांटा से किया जाता है। अब इसे ओर अधिक दुरुस्त किया जाएगा। तौलकांटा के गणक में गड़बड़ी की शिकायत मिली है, इससे कई बार अनाज की कई तुलाई होने से विवाद की स्थिति भी निर्मित होती है। 
नए टैंडर भी निकाले
  वेयर हाउस एवं लाजिस्टिक कारपोरेशन के अनुसार इंदौर का तौलकांटा बेहतर तुलाई कर रहा है। जबकि, अन्य जिलों के तौलकांटों में कुछ गड़बडिय़ां है। वहीं, इन्हें नए सिरे से आवंटित किया जाना है। इसके लिए वेयर हाउस ने टैंडर बुलाए हैं। आनलाइन टैंडर के लिए 50 हजार रुपए मार्जिन मनी जमा कराने का उल्लेख किया गया है। यहां तौलकांटा मेंटेनेंस व संचालन के लिए दो साल का टैंडर निकाला जाता है।

Popular posts